Advertisement

Coronavirus के दौर में दूध पीती बेटी को घर छोड़कर SDM बैजनाथ छवि नांटा ने निभाई जिम्मेदारी

Coronavirus के दौर में SDM बैजनाथ छवि नांटा की सेवाएं काफी प्रमुख रहीं। बता दे की पिछले साल जब Coronavirus की शुरुआत हुई थी तो उस बख्त बैजनाथ में सब सामान्य था। बैजनाथ के SDM छवि नांटा लगातार छोटा भंगाल से लेकर बैजनाथ-पपरोला तथा चढि़यार तक नजर रखे हुए थीं। और घर पर करीब 14 महीने की दूध पीती बेटी को छोड़कर छवि नांटा सुबह से लेकर शाम तक ड्यूटी निभा रही थीं। और यह वह समय था, जब कोई Corona के बारे में नहीं जानता था। लेकिन बस इतना पता था कि यह Coronavirus बेहद खतरनाक है। और छवि नांटा के पति अमित शर्मा DSP पालमपुर हैं, और उस दौर में वह भी क्षेत्र में कानून व्यवस्था को संभाल रहे थे।

Advertisement

SDM छवि नांटा बताती हैं कि उस समय हर तरफ  लॉकडाउन लग चुका था। गरीब लोगों तक राशन पहुंचाना बहुत बड़ी जिम्मेदारी थी। साथ ही कई लोग स्वास्थ्य और जरूरी सेवाओं के लिए एक जिले से दूसरे जिले  और अन्य राज्य भी जा रहे थे। उनके लिए कोविद पास बनाने का कार्य भी था। सभी सेवाएं लगातार काम कर रही थी। साथ ही बैजनाथ इसलिए भी  Coronavirus के दौर में जरुरी  हो गया क्योंकि उस समय यहां जिला कांगड़ा का पहला कोविड केयर सेंटर स्थापित किया गया था। 7  मई, 2020 को यहां से Corona   संक्रमित पहला व्यक्ति लाया गया था। इसके बाद लगातार यहां बनाए गए COVID CARE  CENTER  में जिलेभर से कोरोना संक्रमित लोग एंबुलेंस के जरिए पहुंचने लगे। इन सब लोगों के लिए तीन समय भोजन की व्यवस्था से लेकर अन्य सभी दिक्कतों को दूर करने की जिम्मेदारी SDM छवि नांटा पर थी। उन्होंने जिम्मेदारी के साथ इसे निभाया और छह महीने  तक कोई छुट्टी भी नहीं की

Advertisement
Leave a Comment