You are here
Home > shimla > 250 करोड़ का छात्रवृत्ति घोटाला: हड़पा 11 करोड़ का वजीफा एक हजार फर्जी दाखिले दिखाकर

250 करोड़ का छात्रवृत्ति घोटाला: हड़पा 11 करोड़ का वजीफा एक हजार फर्जी दाखिले दिखाकर

CBI ने 250 करोड़ रुपये के छात्रवृत्ति घोटाले की परतें खोलने शुरू कर दी हैं। और केसी ग्रुप नवांशहर की जांच में खुलासा हुआ है कि संस्थान ने चार सालों में लगभग 1000 फर्जी दाखिले दिखाकर करीब 11 करोड़ रुपये की राशि हड़प ली है।

Advertisement

केंद्रीय जांच एजेंसी ने दस्तावेजों की पड़ताल करते और लंबी पूछताछ में पाया है कि संस्थान, शिक्षा विभाग के अधिकारी और बैंक ने मिलकर इस पूरे घोटाले को अंजाम दिया है। वर्ष 2013 से लेकर 2017 के बीच संस्थान में पढ़ाई करने के नाम पर करीब 1200 विद्यार्थियों ने छात्रवृत्ति के लिए आवेदन किया था। और जांच के दौरान इसमें एक हजार आवेदन फर्जी मिले हैं।

CBI के सूत्रों के अनुसार संस्थान ने करोड़ों की छात्रवृत्ति हड़पने के लिए निजी Computer center से बच्चों के दस्तावेज हासिल किए तथा उन्हीं के नाम पर विभिन्न योजनाओं के तहत मिलने वाली छात्रवृत्ति हड़प ली। अधिकतर विद्यार्थियों को भी पता नहीं है कि दस्तावेजों में उन्होंने कई डिग्रियां हासिल कर ली हैं। और ऐसे कंप्यूटर सेंटरों पर भी केंद्रीय जांच एजेंसी शिकंजा कस रही है।

और इसमें पता लगाया जा रहा है कि दस्तावेज मुहैया करवाने में उन्होंने कितने पैसों का लेन-देन किया। और यही वजह है कि CBI की टीम मामले में मुख्य आरोपी शिक्षा विभाग के अधीक्षक अरविंद राज्टा समेत संस्थान के वाइस चेयरमैन हितेश गांधी और Central Bank of India की शाखा नवांशहर के कैशियर एसपी सिंह से एक बार फिर पूछताछ के लिए कैथू जेल पहुंची थी। CBI अभी तक इस मामले में शिक्षा विभाग, बैंक और निजी संस्थान के प्रबंधकों समेत 12 लोगों के खिलाफ चार्जशीट दायर कर चुकी है।

Advertisement

Similar Articles

Top