You are here
Home > Technology > ISRO ने लॉन्च किया एक खास सैटेलाइट, घने बादल मूसलाधार बारिश में भी दुश्मनों पर रखेगा पैनी नजर

ISRO ने लॉन्च किया एक खास सैटेलाइट, घने बादल मूसलाधार बारिश में भी दुश्मनों पर रखेगा पैनी नजर

भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन ने आज बुधवार को रिसेट-2बी उपग्रह का सफल प्रक्षेपण कर एक बार दोवारा सुनहरा इतिहास रच डाला. श्रीहरीकोटा से रिसेट-2बी उपग्रह का सफल प्रक्षेपण किया गया. और यह प्रक्षेपण पीएसएलवी-सी46 से किया गया. बता दे की यह प्रक्षेपण इस लिहाज से भी मायने रखता है क्योंकि यह रिसेट सैटेलाइन का चौथा उपग्रह है. और इसकी मदद से अब दुश्मनों पर नजर रखना और किसी भी आपदा के समय में सही जानकारी इकट्ठा करना आसान हो जाएगा. रिसेट की सेवा को ध्यान में रखते हुए इसका बजन 300 किलोग्राम के रिसेट-2बी सैटेलाइट के साथ सिंथेटिक अपर्चर रडार इमेजर को भी भेजा गया है.

इसरो के अनुसार बादल होने पर रेगुलर रिमोट सेंसिंग या ऑप्टिकल इमेजिंग सैटेलाइट से धरती पर हो रही छोटी से छोटी गतिविधियों की सही स्थिति नहीं दिखा पाते हैं. सिंथेटिक अपर्चर रडार अब इस कमी को पूरा करेगा. और इसकी मदद से अब किसी भी मौसम में चाहे घने बादल हों,मूसलाधार बारिश हो या फिर रात का अंधेरा, ये एक दम सही तस्वीर जारी करेगा. और इससे किसी भी आपदा के समय राहत पहुंचाने और सुरक्षाबलों को दुश्मनों के ठिकानों की सही जानकारी मिलने में आसानी होगी.

और बताया जाता है कि इसरो अपने नए उपग्रह को 555 किलोमीटर की ऊंचाई पर स्थापित करेगा. रीसेट-2 के लगभग सात साल के बाद भारतीय-राडार इमेजिंग उपग्रहों की सीरिज में रीसेट-2बी की लॉन्चिंग हो रही है.

अभी और छह सैटेलाइट लॉन्च करेगा इसरो

इसरो आने वाले समय में कम से कम छह सैटेलाइन लॉन्च करने की योजना पर काम कर रहा है. और इसमें रिसेट-2बीआर1, रिसेट-2बीआर2, रिसेट-1ए, रिसेट-1बी, रिसेट2ए प्रमुख हैं. इनमें से ज्यादातर सैटेलाइन दुश्मन देशों की गतिविधियो पर नजर रख सकेंगी और तस्वीरों के माध्यम से सेना को सही जानकारी मुहैया कराने में मददगार साबित होंगी.

Similar Articles

Top