अग्रसेन की बावली की संपूर्ण जानकारी | Agrasen Ki Baoli In Hindi
You are here
Home > Travel & Tourism > अग्रसेन की बावली की संपूर्ण जानकारी | Agrasen Ki Baoli In Hindi

अग्रसेन की बावली की संपूर्ण जानकारी | Agrasen Ki Baoli In Hindi

आज हम बात करते है दिल्ली में स्थित महाभारत काल में निर्मित अग्रसेन की बावड़ी के बारे में सभी जानकारियों को हम विस्तार से बताने वाले हैं। आपको पहले ही बता दे की आज के समय में यह बावड़ी खंडहर का रूप धारण किए और इतिहास में रुचि रखने वाले लोगों को अपनी ओर आकर्षित करती है। तो आइये शुरू करते हैं, परन्तु  शुरू करने से पहले मेरा आप सब एक निवेदन है कि इस पोस्ट को अंत तक जरूर पढ़ें।

Advertisement

जानिए क्या है अग्रसेन की बावली – About Agrasen Ki Baoli In Hindi

Agrasen के इस बावड़ी के निर्माण के बारे में कोई भी पुख्ता सबूत नहीं मिलता है, लेकिन कुछ लोगों का यह कहना है कि इसका निर्माण महाभारत काल से जुड़ा हुआ है। और बावड़ी निर्माण के बारे में बताया जाता है कि इसका निर्माण राजा अग्रसेन के द्वारा करवाया गया था। और दिल्ली के हाईवे रोड पर स्थित यह पौराणिक वास्तुकाला वाला स्मारक आज के समय में संरक्षित पुरातत्विक स्थल की सूची में ही रखा गया है।

इस Agrasen बावड़ी के बारे में यह बताया जाता है, कि यहां पर पहले के समय में लोग गर्मी से राहत पाने तथा समय बिताने के लिए यहां पर आया करते थे। आपको रोमांचक की बता बताये तो इस बावड़ी को आज के समय में कुछ लोग हॉन्टेड बावड़ी (haunted stepwell) की नजर से भी देखते हैं।

अग्रसेन की बावली कहा पर है ?

Agrasen ki Baoli राजधानी दिल्ली में हैली रोड पर स्थित एक पौराणिक वास्तुकला वाला स्मारक है ।

अग्रसेन की बावली का निर्माण किसने करवाया था ?

आपको बता दे की अग्रसेन बावली निर्माण के बारे में महाभारत काल के समय को बताया जाता है।  और बताया जाता है, कि इस बावली का निर्माण राजा अग्रसेन के द्वारा किया गया था।

अग्रसेन की बावली की वास्तुकला – Architecture of Agrasen Ki Baoli In Hindi

दिल्ली में स्थित अग्रसेन की बावली की वस्तुकला के बारे में बात करें तो इसकी लंबाई 60 मीटर और 15 मीटर ऊंची है और इस बावली का निर्माण लाल बलुआ पत्थर के द्वारा किया गया है। बावली में नीचे अंदर की तरफ जाने के लिए तकरीबन 105 सीढ़ियां बनी हुई है। जो इस बावली की वास्तुकला देखने में बहुत ज्यादा आकर्षक लगती है।

जानिए अग्रसेन की बावली की भूतिया कहानी – Agrasen Ki Baoli Haunted Story In Hindi

दिल्ली की इस अग्रसेन बावली के बारे में कई लोगों इसको भूतिया भी बताते है। यहां पर कई लोगों द्वारा कई असमान्य गतिविधियों को नोटिस किया गया है। इस अग्रसेन की बाओली के बारे में आज के समय में भी यह बताया जाता है, कि यहां लेट समय तक रुकने के उपरांत कुछ असमान्य गतिविधियां देखी जा सकती हैं। लेकिन इस बात में कितनी सच्चाई है कुछ कह नहीं सकते, परन्तु इतना जरूर है कि इस बावड़ी को लेकर लोगों के मन में भूत-प्रेत का ख्याल जरूर आता है।

अग्रसेन की बावली में जाने का प्रवेश विल्कुल शुल्क – Entry Fee of Agrasen Ki Baoli In Hindi

दिल्ली के इस अग्रसेन बावली में किसी भी व्यक्ति को आने-जाने एवं यहां पर घूमने-फिरने के लिए किसी भी प्रकार प्रवेश शुल्क के रूप में चार्ज नहीं लिया जाता है। आप यहां पर निशुल्क ही घूम सकते हैं।

अग्रसेन की बावली में जाने का समय – Timings of Agrasen Ki Baoli In Hindi

पौराणिक बावली में पर्यटकों के आने-जाने के लिए सुबह 7:00 बजे से लेकर शाम 6:00 बजे तक खुली रहती है इस बीच आप इस बावली में कभी भी आ जा सकते हैं।

अग्रसेन की बावली जाने का अच्छा समय – Best Time To Visit Agrasen Ki Baoli

अग्रसेन की बावली या दिल्ली के किसी भी पर्यटक स्थल को घूमने जाने का अच्छा समय के बारे में बात करें तो आप यहां पर वैसे तो पूरे साल में कभी भी जा सकते हैं, परन्तु आपको मालूम होगा कि दिल्ली में ठंड के मौसम में तापमान काफी कम एवं गर्मी के मौसम में तापमान काफी ज्यादा बढ़ जाता है। इसलिए आप कड़ाके की ठंड एवं कड़ाके की गर्मी के दौरान यहां घूमने जाने से बचे, यही आपके लिए उचित रहेगा।

कैसे पहुंचे अग्रसेन की बावली तक ? – How To Reach Agrasen Ki Baoli In Hindi

यदि आप दिल्ली में स्थित इस अग्रसेन की बावड़ी को घूमने जाने वाले है, तो यह आपको बता दें कि इस बावली के स्टेशन राजीव चौक मेट्रो नजदीकी है। Rajiv Chowk Metro Station से यह बावली काफी पास में ही स्थित है। यदि आप अग्रसेन की बाओली दिल्ली के अलावा भारत के अन्य शहरों से भी आना चाहते हैं, तो आपको बता दें कि आप अपनी सुविधा के मुताबिक किसी भी माध्यम जैसे वायु मार्ग, रेलवे या सड़क मार्ग से आसानी से पहुंच सकते हैं।

यदि आप वायु मार्ग का चुनाव करते हैं तो बता दें दिल्ली में स्थित इंदिरा गांधी इंटरनेशनल हवाई अड्डा भारत के मुख्य शहरों में से एक है यहां के लिए अक्सर फ्लाइट उड़ान भर्ती है। इंदिरा गांधी इंटरनेशनल हवाई अड्डा पहुंचने के उपरांत आप मेट्रो, बस या टैक्सी की सुविधा लेकर अग्रसेन की बाओली आसानी से पहुंच सकते हैं।

आप यदि यहां पर ट्रेन के माध्यम से पहुंचना चाहते हैं तो भी आपको बता दें, दिल्ली में स्थित रेलवे जंक्शन एवं आनंद विहार में स्थित रेलवे स्टेशन के लिए भारत के अनेक शहरों से लगातार ट्रेन की सुविधा देखने को मिलती है। और आप यहां पर अपने यहां से ट्रेन के द्वारा भी आसानी से पहुंच सकते हैं। और रही अगर सड़क मार्ग से आने की बात तो आप सड़क मार्ग से भी यहां पर आसानी से खुद की कार यहां बाइक के द्वारा पहुंच सकते हैं। क्योंकि दिल्ली भारत के अन्य शहरों से नेशनल हाईवे के द्वारा काफी अच्छी तरह से जुड़ा हुआ है।

Advertisement

Similar Articles

Top
error: Content is protected !!