Famous places to visit in Kangra | किस स्वर्ग से कम नहीं है कांगड़ा
You are here
Home > Travel & Tourism > प्रकृति प्रेमियों के लिए किस स्वर्ग से कम नहीं है कांगड़ा – Famous places to visit in Kangra

प्रकृति प्रेमियों के लिए किस स्वर्ग से कम नहीं है कांगड़ा – Famous places to visit in Kangra

हिमाचल प्रदेश में कांगड़ा धर्मशाला के साथ प्रशासनिक मुख्यालय के रूप में एक जिला है। यहाँ बहने वाली ब्यास नदी के साथ, कांगड़ा धौलाधार रेंज, प्राचीन मंदिरों और चाय बागानों की पृष्ठभूमि के लिए भी जाना जाता है। हिमाचल प्रदेश ‘देवभूमि’ के रूप में जाना जाने वाला कांगड़ा पूरे वर्ष शानदार प्राकृतिक सुंदरता में लिपटा रहता है। बता दे की कांगड़ा में काफी खूबसूरत और प्राचीन पर्यटन स्थल हैं जो दूर-दूर से पर्यटकों को अपनी तरफ काफी आकर्षित करते हैं। आज के इस लेख जरिये आपको कांगड़ा के प्रमुख पर्यटन स्थलों के बारे में जानकारी देंगे –

Advertisement

Famous places to visit in Kangra

कांगड़ा किला: Kangra Fort Best place to visit

हिमाचल प्रदेश में कांगड़ा का किला, कांगड़ा घाटी में एक महत्वपूर्ण स्थल है जो की घाटी की भव्यता, धन, युद्ध और आक्रमण का गवाह बना हुआ है। बता दे की यह हिमालय क्षेत्र का सबसे बड़ा किला माना जाता है और साथ ही भारत के सबसे पुराने किलों में से एक है। यह किला प्राचीन त्रिगर्त साम्राज्य में अपनी उत्पत्ति का पता लगाता है, और जिसका उल्लेख महाभारत में मिलता है। परन्तु इस ऐतिहासिक इमारत को 1905 में भूकंप के दौरान काफी क्षति हुई थी, परन्तु यह अभी भी एक भव्य संरचना है और कांगड़ा में गुमने के लिए मुख्य स्थानों में से एक है। आप इस किले से आसपास के क्षेत्रों के मनोरम दृश्य प्राप्त कर सकते हैं।

ब्रजेश्वरी मंदिर : Brajeshwari Temple Best place to visit

यह ब्रजेश्वरी मंदिर महाभारत के पांडवों के द्वारा बनाया गया था। इस मंदिर की मान्यता यह है कि देवी दुर्गा ने उनके सपनों में दर्शन दिए और इस मंदिर बनाने का निर्देश दिया। और जब 1905 के भूकंप में प्राचीन मंदिर को नष्ट कर दिया गया था, तो फिर सरकार द्वारा इसका पुनर्निर्माण किया गया था। इस मंदिर को कांगड़ा देवी मंदिर के रूप में भी जाना जाता है। और यह मंदिर भारत के 51 शक्तिपीठों में से एक है और बेजोड़ वास्तुकला और आध्यात्मिक विभूतियों का दावा करता है।

बैजनाथ मंदिर : Baijnath Temple Best place to visit

बैजनाथ मंदिर, यह मंदिर भगवान शिव को समर्पित है, और जिन्हें यहाँ बैजनाथ या वैद्यनाथ भगवान के रूप में पूजा जाता है। 1204 ई में निर्मित यह मंदिर बहुत धार्मिक महत्व को मानता है क्योंकि भक्तों का मानना ​​है कि जो कोई भी यहाँ प्रार्थना करता है उसे सभी दर्द और दुखों से राहत मिलती है। शक्तिशाली धौलाधार रेंज की पृष्ठभूमि के खिलाफ खड़े इस मंदिर में नागर शैली की वास्तुकला है। और यह भारत के उन मुख्य चुनिंदा मंदिरों में से एक है जहाँ भगवान शिव और लंका के राक्षस राजा रावण दोनों की पूजा की जाती है।

करेरी झील : Kareri Lake Best place to visit

हिमाचल प्रदेसज जिला काँगड़ा में धौलाधार श्रेणी के मध्य में स्थित, करेरी झील की खूबसूरती देखते ही बनती है। और इस मीठे पानी की झील को कुमारवाह झील के नाम से भी जाना जाता है। यह झील कांगड़ा जिले में धर्मशाला के उत्तर पश्चिम में लगभग 9 किलोमीटर की दूरी पर धौलाधार श्रेणी के दक्षिण में स्थित है। यह समुद्र तल से 2,934 मीटर की ऊँचाई पर स्थित है , करेरी झील यहाँ का एक प्रमुख दर्शनीय स्थल होने केअलावा धौलाधार रेंज में एक बहुत लोकप्रिय ट्रैकिंग स्थल भी है। यहाँ धौलाधार पहाड़ियों से पिघलने वाली बर्फ इस उच्च ऊंचाई वाली झील के लिए पानी के स्रोत के रूप में कार्य करती है।

ज्वाला देवी मंदिर : Jwala Devi Temple Best place to visit

हिमाचल प्रदेश के जिला कांगड़ा में स्थित ज्वाला देवी मंदिर, मां भगवती के 51 शक्तिपीठों में से एक प्रमुख मंदिर है। और इस मंदिर को जोता वाली मंदिर के नाम से भी जाना जाता है। यह मंदिर देशभर में काफी प्रसिद्ध है और इस मंदिर को लेकर भक्तों में बड़ी आस्था है। माँ ज्वाला मंदिर में आने वाले सभी भक्तों की सभी मनोकामनाएं पूरी होती हैं। मां इस मंदिर में ज्वाला के रूप में विराजमान हैं। ज्वाला देवी मंदिर में भगवान शिव भी उन्मत भैरव के रूप में विराजमान हैं। और ऐसा कहा जाता है कि ज्वाला देवी मंदिर में सदियों से प्राकृतिक रूप से 9 ज्वालाएं जल रही हैं। और ये ज्वालाएं बिना किसी तेल या बाती के प्राकृतिक रूप से इस मंदिर में जल रही हैं।और  इन 9 ज्वालाओं को मां भगवती के 9 स्वरूपों का प्रतीक माना जाता है। इनमें से सबसे बड़ी ज्वाला को ज्वाला माता कहा जाता है। बाकी 8 ज्वालाओं के रूप में माँ अन्नपूर्णा, मां विध्यवासिनी, मां चण्डी देवी, मां महालक्ष्मी, मां हिंगलाज माता, देवी मां सरस्वती, मां अम्बिका देवी और मां अंजी देवी इस मंदिर में विराजमान हैं।
Advertisement

Similar Articles

Top
error: Content is protected !!